Subscribe

RSS Feed (xml)

"आमंत्रण" ---- `बालसभा’ एक अभियान है जो भारतीय बच्चों के लिए नेट पर स्वस्थ सामग्री व जीवनमूल्यों की शिक्षा हिन्दी में देने के प्रति प्रतिबद्ध है.ताकि नेट पर सर्फ़िंग करती हमारी भावी पीढ़ी को अपनी संस्कृति, साहित्य व मानवीयमूल्यों की समझ भी इस संसाधन के माध्यम से प्राप्त हो व वे केवल उत्पाती खेलों व उत्तेजक सामग्री तक ही सीमित न रहें.कोई भी इस अभियान का हिस्सा बन सकता है, जो भारतीय साहित्य से सम्बन्धित सामग्री को यूनिकोड में टंकित करके ‘बालसभा’ को उपलब्ध कराए। इसमें महापुरुषों की जीवनियाँ, कथा साहित्य व हमारा क्लासिक गद्य-पद्य सम्मिलित है ( जैसे पंचतंत्र, कथा सरित्सागर, हितोपदेश इत्यादि).

Saturday, April 24, 2010

माँ ने मुझसे एक रोज़ कहा था

माँ ने मुझसे एक रोज़ कहा था




                 माँ ने मुझसे एक रोज़ कहा था,
                           करता चल सबसे राम-राम!
                 यश पाएगा दुनिया में तू,
                           राम  करेंगे तेरे सब  काम!!

                                          खुद केलिए सभी जीते हैं,
                                                 तू औरों के हित अब जीले!
                                                         अमृत चाहेगी यह दुनिया,
                                                                  तू दुनिया भर का विष पीले!!
                   जिस ने जग का विष पी डाला,
                            शंकर वही बना अभिराम!
                   माँ ने मुझसे एक रोज़ कहा था,
                             करता चल सबसे राम-राम!!

                                               स्वर्ग एक कल्पना ह्रदय की,
                                                     पा  सकता है अपने अन्दर!
                                                             जिस दिन जीतेगा तू खुद को,
                                                                       बन जाएगा पूर्ण  सिकंदर!!
                    मेरी गोद में है सब पगले!
                           जो तू  ढूंढें सुबहो-शाम!
                    यश पाएगा दुनिया में तू,
                               राम करेंगे तेरे  सब काम!!

                                                     ईश्वर को उसने ही पाया,
                                                             जिस ने मुझको देखा जग में! 
                                                                     माँ की उंगली पकड़ चला जो,
                                                                              कभी नहीं भटका वो मग में!!
                      चलना ही जीवन है पगले!
                              चल गंगा-जल सा अविराम!
                       यश पाएगा तू दुनिया में,
                               राम करेंगे तेरे सब काम!!
                                -------------------------


                                                  डा.योगेन्द्र नाथ शर्मा"अरुण",डी.लिट.
                                                   पूर्व प्राचार्य,
                                                    ७४/३, न्यू नेहरु नगर,रूडकी-247667
                                           ----------------------


6 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर रचना..आभार पढ़वाने का.

rajeevspoetry said...

सुंदर रचना.
धन्यवाद.


(काली पृष्ठभूमि पर लाल शब्द पढ़ना मुश्किल होता है. हलके रंग का फॉण्ट ज्यादा अच्छा होता!)

कविता रावत said...

जीवन की राह आसान करती माँ की सदैव अपने बच्चों को हर हाल में रहकर भी अपने आशीर्वाद से बंचित नहीं रखती ..... माँ जैसा भला और जग में कौन होगा ..
कविता पढ़कर बहुत अच्छा लगा ...
हार्दिक शुभकामनाएँ ..

अक्षिता (पाखी) said...

बहुत प्यारा गीत है..मजा आ गया पढ़कर.

*******************************
पाखी की दुनिया में इस बार चिड़िया-टापू की सैर !!

Post a Comment

आपका एक-एक सार्थक शब्द इस अभियान व प्रयास को बल देगा. मर्यादा व संतुलन, विवेक के पर्याय हैं और उनकी सराहना के शब्द मेरे पास नहीं हैं;पुनरपि उनका सत्कार करती हूँ|आपके प्रतिक्रिया करने के प्रति आभार व्यक्त करना मेरा नैतिक दायित्व ही नहीं अपितु प्रसन्नता का कारण भी है|पुन: स्वागत कर हर्ष होगा| आपकी प्रतिक्रियाएँ मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं।

Related Posts with Thumbnails