Subscribe

RSS Feed (xml)

"आमंत्रण" ---- `बालसभा’ एक अभियान है जो भारतीय बच्चों के लिए नेट पर स्वस्थ सामग्री व जीवनमूल्यों की शिक्षा हिन्दी में देने के प्रति प्रतिबद्ध है.ताकि नेट पर सर्फ़िंग करती हमारी भावी पीढ़ी को अपनी संस्कृति, साहित्य व मानवीयमूल्यों की समझ भी इस संसाधन के माध्यम से प्राप्त हो व वे केवल उत्पाती खेलों व उत्तेजक सामग्री तक ही सीमित न रहें.कोई भी इस अभियान का हिस्सा बन सकता है, जो भारतीय साहित्य से सम्बन्धित सामग्री को यूनिकोड में टंकित करके ‘बालसभा’ को उपलब्ध कराए। इसमें महापुरुषों की जीवनियाँ, कथा साहित्य व हमारा क्लासिक गद्य-पद्य सम्मिलित है ( जैसे पंचतंत्र, कथा सरित्सागर, हितोपदेश इत्यादि).

Friday, November 21, 2008

पंगारा का क्या कहना !



सुगंध बिखेरती, मन लुभावनी शाम को उद्यान के आसपास या गाँव की गलियों में जब आप चहल-कदमी करने निकलें, तो पंगारा के लाल रंग के फूलों की जीवंत आभा आपको मंत्रमुग्ध कर लेगी। पंगारा में जब फूल खिलते हैं, तब एक आकर्षक दृश्य निर्मित हो जाता है। गुच्छों में लगे गहरे लाल रंग के फूलों के कारण ही इसका नाम पंगारा पड़ा है।


पंगारा को वनस्पति शास्त्र में एरिथरिना बैअरिगेट या इंडिका कहा जाता है, जो एक ग्रीक शब्द इरूथ्रोस से आया है। जिसका अर्थ लाल होता है और फूलों के लाल रंग की ओर संकेत करता है। वास्तव में पंगारा भारतीय वृक्ष है, जो भारत के तटीय और भीतरी पतझड़ी जंगलों में अंडमान-निकोबार से लेकर म्यांमार और जावा तक में पाया जाता है।


पंगारा की छाल चिकनी और भूरी होती है। इसमें जगह-जगह धब्बे पाये जाते हैं। तने और शाखाओं पर तीखे, पैने कांटे होते हैं, जो पेड़ की आयु जैसे-जैसे बढ़ती है, वैसे-वैसे समाप्त होते जाते हैं। इन कांटों से छोटे पंगारा का, पक्षी और अन्य कीटों से बचाव होता है। इसकी जड़ें उथली होती हैं। लकड़ी नरम और भुरभुरी व नाज़ुक होती है। पत्तियां बड़ा तिकोन लिए होती हैं, जो सामान्यत 4-6 इंच चौड़ी होती हैं और मध्य का भाग बड़ा होता है। पत्तियाँ चमकीले हरे रंग की होती हैं और ठण्ड के मौसम में गिर जाती हैं। मार्च-अप्रैल तक वृक्ष पत्तों के बगैर रहता है। कम आयु वाले पंगारा में पत्तियाँ वर्षभर रहती हैं।


चमकीले लाल रंग के फूल जनवरी की शुरूआत में आना शुरू हो जाते हैं और यह क्रम मार्च-अप्रैल तक जारी रहता है। फूल छोटी-छोटी बालियों में लगते हैं, जो एकल होते हैं या छोटी-छोटी शाखाओं के अंतिम हिस्सों पर अन्यों के साथ संलग्न होते हैं। फूल 2 से 2.5 इंच लंबी फलियों के आकार वाले बड़े, सघन गुच्छों में लगे होते हैं। ये गुच्छे 4 से 12 इंच लंबे और 5 इंच के घेरे में फैले होते हैं। जिन शाखाओं में फूल लगे होते हैं, उनका अंतिम हिस्सा टार्च या धधकती मशाल-सा प्रतीत होता है।


फूलों में पाँच पंखुड़ियाँ होती हैं। इनमें से एक पंखुड़ी अन्य पंखुड़ियों से बड़ी होती है। यह सीधी, लंबी और नुकीली होती है और आधार पर संकरी होती है। दो पंखुड़ियाँ छोटे पंखों के समान होती हैं, जबकि शेष समान आकार की होती हैं। इनका रंग किरमिजी लाल होता है। ये चार पंखुड़ियां मुख्य पंखुड़ी की आधार परतों के साथ जुड़ी होती हैं। फूलों में सुगंध नहीं होती है, किन्तु पक्षियों के लिए ये आकर्षण का केन्द्र बने रहते हैं।


वास्तव में तथ्य तो यह है कि पंगारा जब पूर्ण रूप से खिला होता है, तो वहाँ तरह-तरह के पक्षियों का मेला-सा लग लग जाता है, कौए, मैना, सात भाई, तोते, रोजी पैस्टर, इसी तरह असंख्य मधुमक्खियाँ और ततैया को इसका परागण बहुत पसंद होने के कारण इसके फूल उत्पादक बन जाते हैं। फूलों के आने के बाद जल्दी ही बीज के लिए फलियाँ आना शुरू हो जाती हैं। पहले ये फलियाँ हरी होती हैं और बाद में काली हो जाती हैं। इनकी लंबाई 15 से 30 सेन्टीमीटर तक होती है, जिसमें एक दर्जन के करीब भूरे-लाल या किरमिजी रंग के अंडाकार चिकने बीज पाए जाते हैं। ये मई और जून में पक जाते हैं।


जंगलों में रहने वाले लोगों ने इसे अपने लाभ के लिए उपयोग में लाना शुरू कर दिया है। पशुओं और अन्य प्राणियों से फसल की रक्षा के लिए बाड़ के रूप में खेत के चारों ओर इसे रोप दिया जाता है। पंगारा का इसके अलावा और भी कई तरह से उपयोग किया जाता है। इसे तटीय नगरों में सड़क के किनारे और बगीचे के चारों और बाड़ तैयार करने के लिए लगाया जाता है। यह काली मिर्च और अंगूर की लताओं के लिए सहारे का भी काम करता है।


कार्य में इसकी योग्यता का मुख्य कारण यह है कि यह बहुत तेज गति से बढ़ता है और इसकी छाल भी उपयुक्त होती है। सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि गर्मी के महीनों में इसकी सघन पत्तियां, लताओं को सघन छाया प्रदान करती हैं और उनके लिए आवश्यक नमी बनाए रखती हैं। जैसे-जैसे दिन ठण्डे होने लगते हैं, वैसे-वैसे इसकी पत्तियां झड़ने लगती हैं और लता को आवश्यकतानुसार सूर्य-प्रकाश मिलने लगता है। पंगारा के बीज जहरीले होते हैं, किन्तु छाल, पत्तियां और उनका अर्क औषधीय गुणवत्ता लिए होता है। इसके गहरे लाल रंग के फूल हवाना के लोगों में फैशन के लिए बहुत अधिक प्रसिद्ध हैं |

(मिलाप)

*******************************************************




0 comments:

Post a Comment

आपका एक-एक सार्थक शब्द इस अभियान व प्रयास को बल देगा. मर्यादा व संतुलन, विवेक के पर्याय हैं और उनकी सराहना के शब्द मेरे पास नहीं हैं;पुनरपि उनका सत्कार करती हूँ|आपके प्रतिक्रिया करने के प्रति आभार व्यक्त करना मेरा नैतिक दायित्व ही नहीं अपितु प्रसन्नता का कारण भी है|पुन: स्वागत कर हर्ष होगा| आपकी प्रतिक्रियाएँ मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं।

Related Posts with Thumbnails